श्री दिग्गी कल्याण जी का मंदिर Shri Kalyan Mandir, यहां होती है सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी

श्री दिग्गी कल्याण जी का मंदिर Shri Kalyan Mandir, यहां होती है सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी

दिग्गी कल्याण जी मंदिर को श्री कल्याण मंदिर Shri Kalyan Mandir भी कहा जाता है। यह मंदिर राजस्थान के टोंक जिले की मालपुरा तहसील में स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है और स्थानीय मान्यताओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण लगभग 5600 साल पहले हुआ था। 

राजधानी जयपुर से 82 किमी की दूरी पर स्थित, दिग्गी कल्याण मंदिर राजस्थान के सबसे महत्वपूर्ण पूजा स्थलों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि  मंदिर का निर्माण मेवाड़ वंश के राणा संग्राम सिंह जी ने वर्ष 1527 ई. में करवाया था।

दिग्गी कल्याण जी की कथा – Story of Diggi Kalyan

एक पौराणिक कथा के अनुसार, उर्वशी नाम की एक अप्सरा भगवान इंद्र के दरबार में नृत्य कर रही थी। एक बार जब वह भगवान इंद्र पर हंस पड़ी, तो उसके व्यवहार से परेशान होकर, भगवान इंद्र ने उसे शाप दिया और उसे 12 साल के लिए अपने राज्य से बाहर कर दिया। उसने इंद्र से गुहार लगाई। बाद में, उसने उसे पृथ्वी पर जाने के लिए कहा। पृथ्वी पर, उसने संतों, ऋषियों की सेवा की और इनाम में आशीर्वाद अर्जित किया। एक दिन राजा दिग्वा ने उसे बगीचे में देखा। वह उसकी सुंदरता से मंत्रमुग्ध था। राजा दिग्वा ने उर्वशी को अपने महल में आमंत्रित किया। अप्सरा ने उनके निमंत्रण को अस्वीकार कर दिया और राजा से कहा कि वह भगवान इंद्र की है। राजा दिग्वा ने इंद्र को युद्ध के लिए ललकारा।

अप्सरा उर्वशी नाराज होकर राजा को कुष्ठ रोग से पीड़ित होने का श्राप देती हैं। अप्सरा को ठेस पहुँचाने के कारण वह कोढ़ी बन गया। कुष्ठ रोग से मुक्ति पाने के लिए राजा ने घोर तपस्या और तपस्या की। भगवान विष्णु उनके सामने प्रकट हुए और उन्हें आशीर्वाद दिया। भगवान विष्णु ने राजा को नदी के किनारे एक दबी हुई मूर्ति के बारे में बताया और उन्हें उस मूर्ति को एक मंदिर में स्थापित करने के लिए कहा गया। जब राजा दिग्वा ने मूर्ति की स्थापना की, तो वह अपनी बीमारी से ठीक हो गया।

दिग्गी पदयात्रा – Diggy Padyatra

दिग्गी पदयात्रा लोकप्रिय धार्मिक यात्रा में से एक है जो हर साल आयोजित की जाती है। लोकप्रिय पदयात्रा जयपुर, राजस्थान से निकलती है। दिग्गी पदयात्रा जयपुर के ताड़केश्वर मंदिर से शुरू होकर मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर तक जाती है। 

यात्रा फिर मदरामपुरा के लिए रवाना होती है और रात के लिए रुकती है। अगले दो दिनों तक यात्रा जुलूस रेनवाल और बांदी नदी को पार करता है। चौथे दिन यात्रियों को चौसाला ले जाया जाता है और अंतिम दिन यात्रा का समापन दिग्गी में भगवान कल्याण जी के मंदिर में होता है।

डिग्गी कल्याण जी की पदयात्रा कब जाएगी ? – When will Diggy Kalyan ji’s padayatra go?

डिग्गी कल्याण जी की पदयात्रा 3 अगस्त को जयपुर में स्थित ताड़केश्वर महादेव के मंदिर से रवाना होकर टोंक जिले में स्थित डिग्गी कल्याण जी के मंदिर के लिए प्रस्थान करेगी।

दिग्गी पदयात्रा का ऐतिहासिक महत्व

भगवान कल्याण जी के भक्त और अनुयायी जिन्हें भगवान विष्णु का अवतार माना जाता है, यात्रा में भाग लेते हैं। भगवान कल्याण जी का मंदिर राजस्थान के टोंक जिले के डिग्गी गांव में स्थित है। इसलिए इस यात्रा को दिग्गी यात्रा के नाम से जाना जाता है।

इस मंदिर का निर्माण राजा दिग्वा ने करवाया था जो लगभग 6000 साल पहले इस क्षेत्र पर शासन करते थे। एक श्राप के कारण राजा कुष्ठ रोग से पीड़ित हो गया। जब राजा इलाज के तरीके ढूंढ रहे थे, तो उन्हें स्वर्ग से एक आवाज सुनाई दी कि डिग्गी में भगवान कल्याण जी की छवि स्थापित करने के बाद वे ठीक हो जाएंगे। राजा ने आज्ञा मानी और इस कोढ़ से छुटकारा पा लिया।

इसके बाद भगवान विष्णु भगवान कल्याण जी के अवतार के रूप में आए और उस स्थान पर खुद को स्थापित किया। मंदिर के भीतर भगवान कल्याण जी की मूर्ति अद्वितीय है क्योंकि इसे सफेद संगमरमर से बनाया गया है।

दिग्गी पदयात्रा का समय

यात्रा आमतौर पर श्रावण और भाद्रपद के महीनों में आयोजित की जाती है पदयात्रा को  क्षेत्र में इस तरह की सबसे बड़ी यात्रा माना जाता है।

दिग्गी कल्याण दर्शन समय – Diggi Kalyan Darshan Timings

मंदिर सुबह 4:30 बजे खुलता है और रात 9 बजे बंद हो जाता है।

कल्याणजी मंदिर संपर्क नंबर080942 24160

कल्याणजी मंदिर का समय: 24 घंटे

डिग्गी कल्याण जी मंदिर Shri Kalyan Mandir में त्यौहार, पूजा और समारोह

मंदिर परिसर में कई मेलों और त्योहारों का आयोजन किया जाता है।मंदिर में मनाए जाने वाले महत्वपूर्ण त्योहार वैशाखी पूर्णिमा, हरियाली अमावस, कार्तिका पूर्णिमा, पटोत्सव, जल झूलानी एकादशी और अन्नकूट हैं।

श्रावण और भाद्रपद के महीनों में लोग नंगे पैर चलकर मंदिर में आते हैं।

भगवान कल्याण जी का आशीर्वाद : Blessings of Lord Kalyan ji

देश भर से भक्त वार्षिक डिग्गी यात्रा के लिए आते हैं जो अपने आप में एक अनूठा आयोजन है। लोग भगवान कल्याण जी से आशीर्वाद लेने आते हैं और खुद को विभिन्न बीमारियों से मुक्त करते हैं। भक्त, युवा और बूढ़े दोनों यात्रा मार्ग में गाते और नृत्य करते हैं। यात्रा हर साल आयोजित की जाती है और भक्तों की बढ़ती संख्या यात्रा में भाग लेती है।अनुमानित 10 – 12 लाख तीर्थयात्री वार्षिक यात्रा में भाग लेते हैं 

कैसे पहुंचें डिग्गी कल्याण जी – How to reach diggi kalyan ji

सड़क मार्ग से:  डिग्गी जयपुर से 70 किमी दूर है। राजस्थान के सभी प्रमुख शहरों से बसें और टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।
ट्रेन से:  निकटतम रेलवे स्टेशन निवाई है जो मंदिर से 70 किमी दूर है।
हवाई मार्ग से:  निकटतम हवाई अड्डा सांगानेर, जयपुर में स्थित है जो मंदिर से 60 किमी दूर है।

Generic placeholder image
About JP Dhabhai

Hi, My name is JP Dhabhai and I live in Reengus, a small town in the Sikar district. I am a small construction business owner and I provide my construction services to many companies. I love traveling solo and with my friends. You can say it is my hobby and passion.

Posted on by

Leave a Reply