भगवान विष्णु का दरबार बद्रीनाथ धाम

भगवान विष्णु का दरबार बद्रीनाथ धाम

बद्रीनाथ धाम अथवा बद्रीनारायण मन्दिर भारतीय राज्य उत्तराखण्ड के चमोली जनपद में अलकनन्दा नदी के तट पर स्थित एक हिन्दू मन्दिर है। यह हिंदू देवता विष्णु को समर्पित मंदिर है और यह स्थान इस धर्म में वर्णित सर्वाधिक पवित्र स्थानों, चार धामों, में से एक यह एक प्राचीन मंदिर है जिसका निर्माण ७वीं-९वीं सदी में होने के प्रमाण मिलते हैं। मन्दिर के नाम पर ही इसके इर्द-गिर्द बसे नगर को भी बद्रीनाथ ही कहा जाता है।

भौगोलिक दृष्टि से यह स्थान हिमालय पर्वतमाला के ऊँचे शिखरों के मध्य, गढ़वाल क्षेत्र में, समुद्र तल से ३,१३३ मीटर (१०,२७९ फ़ीट) की ऊँचाई पर स्थित है। जाड़ों की ऋतु में हिमालयी क्षेत्र की रूक्ष मौसमी दशाओं के कारण मन्दिर वर्ष के छह महीनों (अप्रैल के अंत से लेकर नवम्बर की शुरुआत तक) की सीमित अवधि के लिए ही खुला रहता है। यह भारत के कुछ सबसे व्यस्त तीर्थस्थानों में से एक है; २०१२ में यहाँ लगभग १०.६ लाख तीर्थयात्रियों का आगमन दर्ज किया गया था।

बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास Badrinath Temple History in Hindi

बद्रीनाथ धाम के बारे में कहा जाता है कि यहां पहले भगवान भोलेनाथ का निवास हुआ करता था लेकिन बाद में भगवान विष्णु ने इस स्थान को भगवान शिव से मांग लिया था. –बद्रीनाथ धाम दो पर्वतों के बीच बसा है. इन्हें नर नारायण पर्वत कहा जाता है. कहा जाता है कि यहां भगवान विष्णु के अंश नर और नारायण ने तपस्या की थी.

हिंदू अनुयायियों का कहना है कि बद्रीनाथ की मूर्ति देवताओं ने स्थापित की थी। जब बौद्धों का पराभव हुआ, तो उन्होंने इसे अलकनन्दा में फेंक दिया। शंकराचार्य ने ही अलकनंदा नदी में से बद्रीनाथ की इस मूर्ति की खोज की, और इसे तप्त कुंड नामक गर्म चश्मे के पास स्थित एक गुफा में स्थापित किया।

भगवान बदरी तृतीय बद्री के रूप में वृद्ध बदरी में निवास करते हैं। यह मंदिर जोशीमठ से हेलंग के बीच बद्रीनाथ राजमार्ग में ही अणिमठ नामक स्थान पर मौजूद है। पुराणों में इस स्थान को नारद की तपस्थली के रूप में जाना जाता रहा है। नारद को भगवान विष्णु ने एक वृद्ध के रूप में यहां दर्शन दिए।

बद्रीनाथ धाम

बद्रीनाथ धाम मंदिर के कपाट कब खुलते और बंद होते हैं ?

इस मंदिर के कपाट मई के अक्षय तृतीया के दिन महीने में खोल दिए जाते हैं और नवंबर के महीने में दीपावली के दो दिन बाद भाई दूज के दिन बंद कर दिए जाते हैं।

भगवान विष्णु का यह मंदिर सप्ताह के सातों दिनों तक खुला रहता है, जिसमें दर्शन करने का समय नियमित रूप से सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक रहता है।

बद्रीनाथ धाम कैसे पहुंचे

By Flight: जॉली ग्रांट हवाई अड्डा (देहरादून से 35 किलोमीटर) बदरीनाथ का निकटतम हवाई अड्डा है जो 314 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डा दैनिक उड़ानों के साथ दिल्ली से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है। बदरीनाथ जॉली ग्रांट हवाई अड्डे के साथ मोटर योग्य सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। जॉली ग्रांट हवाई अड्डे से बदरीनाथ के लिए टैक्सी उपलब्ध हैं।

By Train: बदरीनाथ का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है। ऋषिकेश रेलवे स्टेशन NH58 पर बदरीनाथ से 295 किमी पहले स्थित है। ऋषिकेश भारत के प्रमुख गंतव्यों के साथ रेलवे नेटवर्क द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। ऋषिकेश के लिए ट्रेनें अक्सर हैं। बदरीनाथ ऋषिकेश के साथ मोटर योग्य सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। ऋषिकेश, श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, चमोली, जोशीमठ और कई अन्य गंतव्यों से बदरीनाथ के लिए टैक्सी और बसें उपलब्ध हैं।

By Road: बदरीनाथ उत्तराखंड राज्य के प्रमुख स्थलों के साथ मोटर योग्य सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आईएसबीटी कश्मीरी गेट नई दिल्ली से हरिद्वार, ऋषिकेश और श्रीनगर के लिए बसें उपलब्ध हैं। बदरीनाथ के लिए बसें और टैक्सी उत्तराखंड राज्य के प्रमुख स्थलों जैसे देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश, पौड़ी, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, ऊखीमठ, श्रीनगर, चमोली आदि से आसानी से उपलब्ध हैं। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग 58 द्वारा गाजियाबाद से जुड़ा हुआ है।

चार धाम की यात्रा पर जाने से पहले रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है. आप उत्तराखंड में चार धाम यात्रा के लिए registrationandtouristcare.uk.gov.in पर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के बाद आपको क्यूआर कोड के साथ यात्रा रजिस्ट्रेशन जनरेट करना होगा. इसका वेरिफिकेशन धाम पर होगा.

Generic placeholder image
About JP Dhabhai

Hi, My name is JP Dhabhai and I live in Reengus, a small town in the Sikar district. I am a small construction business owner and I provide my construction services to many companies. I love traveling solo and with my friends. You can say it is my hobby and passion.

Posted on by

Leave a Reply