देहरादून(Dehradun), हिमालय की तलहटी में बसा बेहद खूबसूरत पर्यटक स्थल

देहरादून(Dehradun), हिमालय की तलहटी में बसा बेहद खूबसूरत पर्यटक स्थल

देहरादून (Dehradun) उत्तराखंड की राजधानी और सबसे बड़ा शहर है।देहरादून को मसूरी और ऋषिकेश और हरिद्वार के प्रवेश द्वार(GateWay) के रूप में जाना जाता है। देहरादून को देश के कुछ प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों और बोर्डिंग स्कूलों के साथ “उत्तराखंड के शिक्षा केंद्र”(Education Hub) के रूप में भी जाना जाता है।

देहरादून (Dehradun) शहर एक बहुत ही लोकप्रिय हिल स्टेशन है जो यात्रियों को अपनी ओर आकर्षित करता है।प्रकृति प्रेमी के लिए देहरादून लोकप्रिय स्थान है। यह उत्तराखंड के सबसे अच्छे पर्यटन स्थल में से एक है।

देहरादून (Dehradun) के इन 7 खूबसूरत पर्यटन स्थल को आप देखना न भूले

1. रॉबर्स गुफा (Robber’s Cave)

रॉबर की गुफा, जिसे “गुच्चू पानी” के नाम से जाना जाता है, हिमालय में बनी एक नदी की गुफा है, जो देहरादून, उत्तराखंड से लगभग 8 किलोमीटर दूर है। इस नदी की गुफा को भगवान शिव का निवास माना जाता है और यह उत्तराखंड में सहस्राधार के बहुत करीब है। इसकी खासियत यह है कि नदी का पानी गुफा के बीच से होकर बहता है।

 यह अंधेरे चूना पत्थर से घिरी एक 600 मीटर लंबी गुफा है। दोस्तों और परिवार के साथ पिकनिक मनाने के लिए रॉबर की गुफा एक बेहतरीन जगह है।गुफा के अंदर टहलने के बाद, आप पिकनिक के लिए गुफा के पास झरने की ओर जा सकते हैं।

यहां घूमने का सबसे अच्छा समय अप्रैल से अक्टूबर तक है।

  • प्रवेश शुल्क: INR 25
  • समय: सुबह 07:00 से शाम 06:00 बजे तक।

2. सहस्त्रधारा (Sahastradhara)

देहरादून (Dehradun) से लगभग 11 किमी की दूरी पर स्थित सहस्त्रधारा एक खूबसूरत और लोकप्रिय स्थान है।सहस्त्रधारा का असली अर्थ है ‘हजार गुना वसंत’ है।यह अपने चिकित्सीय महत्व के लिए प्रसिद्ध है क्योंकि इसके पानी में सल्फर होता है।इसे सल्फर स्प्रिंग्स के रूप में भी जाना जाता है, चूना पत्थर के स्टैलेक्टाइट्स के माध्यम से झरने का पानी सल्फर से भरपूर हो जाता है। यहां के सल्फर युक्त पानी में डुबकी लगाने से ठंडक और ताजगी का अहसास होता है।

इस जगह की सुंदरता मानसून के दौरान कई गुना बढ़ जाती है त्वचा रोगों से पीड़ित लोग इस जगह पर जाएँ, अपने रोगों के इलाज के लिए झरने में स्नान करें।

  • प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं।
  • समय: सुबह 08:00 से शाम 07:00 बजे तक।

3. टपकेश्वर मंदिर (Tapkeshwar Temple)

Tapkeshwar Temple

टपकेश्वर मंदिर, जिसे टपकेश्वर महादेव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, देहरादून शहर के केंद्र(Centre) से 6.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।टपकेश्वर मंदिर भगवान शिव का एक गुफा मंदिर है। यह मंदिर एक नदी के किनारे स्थित है।

 ऐसा कहते हैं कि इस जगह को गुरु द्रोणाचार्य ने बनवाया था, इसलिए इसे द्रोण गुफा के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर के परिसर में एक शिव लिंग है जिसके बारे में यह माना जाता है कि जो भी लोग यहां कुछ मांगने आते हैं, भगवान उनकी मनोकामना को पूरा करते हैं। यहां छत से शिवलिंग पर लगातार पानी टपकता है जिसकी वजह से इस जगह का नाम टपकेश्वर पड़ा है। 

टपकेश्वर मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय महाशिवरात्रि के दौरान होता है। यह उत्सव भगवान शिव से पार्वती की शादी के रूप में मनाया जाता है।

  • प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं।
  • समय: सुबह 06:00 से शाम 07:00 बजे तक।

4. माइंड्रोलिंग मठ (Mindrolling Monastery)

माइंड्रोलिंग मठ, जिसे बुद्ध मंदिर के रूप में भी जाना जाता है,हिमालय की तलहटी के बीच में स्थित, माइंड्रोलिंग मठ सबसे बड़े बौद्ध केंद्रों में से एक है।देश के साथ-साथ विदेशों से भी हजारों की संख्या में पर्यटक दर्शन के लिए माइंड्रोलिंग मठ आते हैं।यह देहरादून जिले के क्लीमेंट टाउन (clement town) में स्थित एक तिब्बती बौद्ध मठ है।मठ अपने बगीचों, विश्वविद्यालय परिसर और एशिया के सबसे ऊंचे स्तूप(Tallest Stupa) के लिए प्रसिद्ध है।

मठ की यात्रा का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून तक है जो देहरादून में पर्यटन के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है। 

  • प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं।
  • समय: सुबह 08:00 से दोपहर 12:00, दोपहर 02:00 से शाम 07:00 बजे तक।

5. वन अनुसंधान संस्थान (Forest Research Institute)

देहरादून (Dehradun) में,वर्ष 1906 में स्थापित वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआई) कौलागढ़ रोड पर स्थित एक प्रमुख अनुसंधान संस्थान है। यह संस्थान अपनी शानदार इमारत के लिए प्रसिद्ध है।इमारत ग्रीको-रोमन और वास्तुकला की शैली का एक सुंदर मिश्रण है।वन अनुसंधान संस्थान में सुंदर विशाल परिसर भी मीडिया को आकर्षित करता है। इस संस्था का उपयोग बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग के लिए किया गया है।कुछ प्रसिद्ध फिल्में – कृष्णा कॉटेज, दुल्हन एक रात की, रहना है तेरे दिल में, पान सिंह तोमर, कामरा नंबर 404, दिल्ली खबर, यारा, डियर डैडी और स्टूडेंट ऑफ द ईयर।वन अनुसंधान संस्थान के भवन में वन पर आधारित एक वनस्पति संग्रहालय भी है।

6. मालसी डियर पार्क (Malsi Deer Park)

मालसी डियर पार्क देहरादून में स्थित है, जिसे “देहरादून जू” के नाम से भी जाना जाता है।यह एक सुरम्य स्थान है, फोटोग्राफरों के लिए यह एक अद्भुत जगह है। पार्क प्राकृतिक और शांत वातावरण से युक्त है,मालसी डियर पार्क यात्रा या पिकनिक के लिए अच्छी जगह है।अगर आप कभी देहरादून जाएँ तो हिरण पार्क अवश्य जाएँ।मालसी डियर पार्क को केंद्र सरकार द्वारा “मिनी जू” का दर्जा प्राप्त है।

हालांकि यह पार्क मुख्य रूप से हिरणों के लिए प्रसिद्ध है, फिर भी पर्यटक मोर, नीलगाय, खरगोश और बाघ भी देख सकते हैं। नीलगायों के अलावा, यह पार्क हिमालयी मृगों का घर है जो दुनिया भर से पशु प्रेमियों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। पार्क मालसी फॉरेस्ट रिजर्व का एक हिस्सा है और राजाजी नेशनल पार्क के बाद देहरादून में दूसरा सबसे अच्छा वन्यजीव आकर्षण है।

हालांकि इसे पूरे साल देखा जा सकता है, मालसी डियर पार्क की यात्रा का सबसे अच्छा समय अप्रैल से जुलाई तक है जब पहाड़ियों में मौसम सुहावना होता है। 

यह पार्क मसूरी सड़क मार्ग पर देहरादून (Dehradun) से करीब 10 किमी. की दूरी पर स्थित है। देहरादून से पार्क में जाने के लिए आपको टैक्सी की सुविधा मिल जाएगी, जिससे आप आसानी से इस पार्क में पहुंच सकते हैं।

  • प्रवेश शुल्क: INR 10
  • समय: सुबह 10:00 से शाम 07:00 बजे तक।

7. तपोवन मंदिर (Tavovan Temple)

तपोवन मंदिर देहरादून (Dehradun) के सबसे लोकप्रिय धार्मिक स्थलों में से एक है। यह मुख्य शहर से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इसे महा रुद्रेश्वर शिव मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।यहां गुरु द्रोणाचार्य ने, जो महाभारत में कौरवों और पांडवों के शिक्षक थे, अपना बलिदान दिया। इसलिए यहां आने वाले लोग प्राचीन काल में वहां हुई घटनाओं के बारे में जानने के लिए उत्सुक रहते हैं।

हरियाली से घिरे इस मंदिर की यात्रा तनाव को दूर करने और मन की शांति प्रदान करने के लिए जानी जाती है। यह ध्यान और योग करने के लिए एक बहुत प्रसिद्ध स्थान है।

 पूरे साल यहां के शानदार मौसम के कारण यहां हर समय पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है।

खुलने का समय: सुबह 6:00 बजे से शाम 8:00 बजे तक प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं

फ्लाइट से देहरादून कैसे पहुंचे

जॉली ग्रांट एयरपोर्ट देहरादून का अपना एयरपोर्ट है। यह उत्तराखंड का सबसे बड़ा हवाई अड्डा भी है। नई दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों से नियमित उड़ानें इस हवाई अड्डे से उड़ान भरती हैं। यह देहरादून के मुख्य शहर से 29.4 किमी दूर है। एक बार जब आप हवाई अड्डे पर उतरते हैं, तो आप शहर के लिए टैक्सी ले सकते हैं।

सड़क मार्ग से देहरादून कैसे पहुंचे

कई निजी बसें हैं जो दिल्ली से देहरादून के बीच चलती हैं और पहुंचने में कम से कम 5-6 घंटे लगते हैं। इसके अलावा यात्री दिल्ली से NH72A से गुजरते हुए अपनी कार ड्राइव कर शहर तक पहुंच सकते हैं।

ट्रेन से देहरादून कैसे पहुंचे

देहरादून (Dehradun) रेलवे स्टेशन, रेलवे नेटवर्क द्वारा देहरादून को भारत से जोड़ता है। देहरादून शहर से के लिए नियमित रेल सेवाएं हैं। उनमें से सबसे प्रसिद्ध देहरादून जन शताब्दी एक्सप्रेस है, जो नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से चलती है, 

Generic placeholder image
About JP Dhabhai

Hi, My name is JP Dhabhai and I live in Reengus, a small town in the Sikar district. I am a small construction business owner and I provide my construction services to many companies. I love traveling solo and with my friends. You can say it is my hobby and passion.

Posted on by

Leave a Reply