सोमनाथ ज्योतिर्लिंग- Somnath Jyotirlinga देवो के देव महादेव का पहला ज्योतिर्लिंग जो है भक्तों की आस्था का प्रतीक

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग- Somnath Jyotirlinga देवो के देव महादेव का पहला ज्योतिर्लिंग जो है भक्तों की आस्था का प्रतीक

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर somnath jyotirlinga temple भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से पहला है। यह गुजरात के पश्चिमी तट पर स्थित है और देश के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। श्रीमद भगवत गीता, स्कंदपुराण, शिवपुराण और ऋग्वेद जैसे प्राचीन ग्रंथों में इसका उल्लेख किया गया है।सोमनाथ शब्द का अर्थ है ‘चंद्रमा का स्वामी‘ जो भगवान शिव का एक रूप है। यह मंदिर गुजरात के सौराष्ट्र में वेरावल बंदरगाह के पास प्रभास पाटन में स्थित है। इसे “द श्राइन इटरनल(The Shrine Eternal)” भी कहा जाता है क्योंकि अतीत में मंदिर को छह बार लूटा और नष्ट किया गया था। हालाँकि, उसके बाद हर बार इसे शानदार ढंग से बनाया गया था।

सोमनाथ मंदिर का महत्व – Significance of Somnath Temple

हिंदू पौराणिक कथाओं में 12 ज्योतिर्लिंगों में सोमनाथ मंदिर पहला ज्योतिर्लिंग है। ऐसा कहा जाता है कि शिव इस लिंग से प्रकाश के एक ज्वलंत स्तंभ के रूप में प्रकट हुए, जो इसे स्वयंभू बनाता है। दुनिया भर में हर साल लाखों लोग इस मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि भगवान कृष्ण से जुड़ा स्यामंतक मणि (दार्शनिक का पत्थर) मंदिर में शिव लिंग के अंदर छिपा हुआ है। मान्यताओं के अनुसार इस जादुई पत्थर में सोना पैदा करने की क्षमता है। यह अपने चारों ओर एक चुंबकीय क्षेत्र बनाने के लिए भी जिम्मेदार है जो लिंग को जमीन से ऊपर तैरता रहता है।

Image credit petrohemant

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग पर आक्रमण – Attack on Somnath Jyotirlinga

सोमनाथ मंदिर somnath jyotirlinga temple को छह बार तोड़ा गया था।मंदिर पर पहला हमला सिंध के राज्यपाल अल-जुनैद ने लगभग 725 सीई में गुजरात और राजस्थान के आक्रमणों के दौरान किया था। राजा नागभट्ट ने 815 ईस्वी में तीसरे मंदिर का पुनर्निर्माण कराया।

1024 में, तुर्क सुल्तान, मोहम्मद गजनी ने सोमनाथ मंदिर पर बमबारी की। उन्होंने ज्योतिर्लिंग को ध्वस्त कर दिया और उन सभी भक्तों को मार डाला जिन्होंने इसे लूट से बचाने का प्रयास किया था। बाद में, मालवा के राजा भोज और पाटन के राजा भीमदेव प्रथम सोमेश्वर को पुनर्स्थापित किया।

सोमनाथ पर अगला हमला अलाउद्दीन खिलजी की सेना द्वारा किया गया था। भगवान की मूर्ति चोरी हो गई थी, और इस प्रक्रिया में कई भक्तों को पकड़ लिया गया था। सौराष्ट्र के चुडासमा राजा, राजा महिपाल प्रथम ने 1308 में इसका पुनर्निर्माण किया। बाद में, गुजरात सल्तनत के मुजफ्फर शाह प्रथम और महमूद बेगड़ा ने क्रमशः 1375 और 1451 में बार-बार हमले किए।

1665 में औरंगजेब ने भी मंदिर पर हमला किया। आखिरकार 1783 में पेशवाओं, भोंसले, इंदौर की रानी अहिल्याबाई और ग्वालियर के श्रीमंत पाटिलबुवा शिंदे ने मिलकर इसका पुनर्निर्माण कराया। वर्तमान मंदिर चालुक्य शैली में बना है।

सोमेश्वर कुंड की कहानी- Story of Someshwar Kund

प्रजापति दक्ष के 27 नक्षत्रों का जन्म उनकी पुत्रियों के रूप में हुआ था। उनकी सभी 27 बेटियों का विवाह भगवान चंद्र (चंद्रमा) से हुआ था। हालाँकि, चंद्र केवल रोहिणी से प्यार करता था और अपनी अन्य 26 पत्नियों की उपेक्षा करता था। इससे उनके पिता दक्ष नाराज हो गए। उन्होंने चंद्र को हर दिन आकार में कम होने का शाप दिया। इस श्राप का मुकाबला करने के लिए, चंद्र ने भगवान शिव को तपस्या की, जिन्होंने उन्हें वरदान दिया था।

वरदान यह था कि भगवान शिव चंद्र को अपने सिर पर रखेंगे। इस तरह, चंद्र हर दिन एक कला (छाया) खो देगा और अगले 15 दिनों में केवल 15 दिनों के लिए आकार में कमी आएगी। जब चंद्रमा पूरी तरह से फीका पड़ जाता है, तो इसे अमावस्या (अमावस्या) कहा जाता है। जब वह पूर्ण आकार का हो जाता है, तो उसे पूर्णिमा का दिन (पूर्णिमा) कहा जाता है। इस प्रकार, इन्हें कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष (15 दिनों का प्रत्येक पक्ष) कहा जाता है। परिणामस्वरूप, शिव को सोमेश्वर (चंद्रमा का स्वामी) भी कहा गया। कुंड श्राप को दूर करने के लिए शिव का सम्मान होता है।

सोमनाथ मंदिर की संरचना कैसी है ? – How is the structure of Somnath temple?

मंदिर को तीन मुख्य क्षेत्रों में विभाजित किया गया है – गर्भगृह, सभामंडपम और नृत्यमंडपम। मंदिर का शिखर 150 फीट ऊंचा है। कलश या कलश का वजन 10 टन होता है। सबसे ऊपर झंडा पोल 8.2 मीटर लंबा है। 

सोमनाथ मंदिर में मनाए जाने वाले त्योहार – Festivals celebrated in Somnath Temple

श्रावण मास: श्रावण मास हिंदू कैलेंडर के पांचवें महीने में आता है, जुलाई के अंत से शुरू होकर अगस्त के तीसरे सप्ताह तक समाप्त होता है।

महाशिवरात्रि: यह वह दिन है जब भगवान शिव ने देवी पार्वती से विवाह किया था। यह आमतौर पर फरवरी के अंत से मार्च की शुरुआत में होता है।

गोलोकधाम उत्सव: यह भगवान कृष्ण के जन्म का प्रतीक है, जिसे जन्माष्टमी के नाम से अधिक जाना जाता है।

कार्तिक पूर्णिमा मेला: मेला पांच दिनों तक चलता है।

सोमनाथ स्थापना दिवस: स्थापना दिवस जो 11 मई को मनाया जाता है।

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग में पूजा- Worship in Somnath Jyotirling

होमत्मक अतिरुद्र(Homatmak Atirudra): यह यज्ञ सभी महायज्ञों में सबसे शक्तिशाली और सबसे पवित्र यज्ञ है। इस यज्ञ को करने से आपके पाप धुल जाते हैं और शांति और समृद्धि आती है। अतिरुद्र में महा रुद्र के ग्यारह पाठ होते हैं।

होमत्मक महारुद्र(Homatmak Maharudra): इस पूजा में 56 उच्च विद्वान वैदिक पंडित एक ही स्थान पर रुद्रों का पाठ करते हैं। पुजारी मंदिर के देवताओं के सामने ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद का पाठ भी करता है।

होमत्मक लगुरूद्रा(Homatmak Lagurudra): यह अभिषेक स्वास्थ्य और धन से संबंधित मुद्दों को हल करने के लिए किया जाता है। यह कुंडली में ग्रहों के बुरे प्रभाव को भी दूर करता है।

सवलक्ष संपूत महामृत्युंजय जाप(Savalaksha Samput Mahamrityunjaya Jaap): महामृत्युंजय अभिषेक व्यक्ति की दीर्घायु और अमरता को बढ़ाता है।

सोमनाथ मंदिर का समय क्या है? – What is the timing of Somnath temple?

मंदिर सुबह 6:00 बजे खुलता है और रात 10:00 बजे बंद हो जाता है। इस दौरान मंदिर में कई तरह के अनुष्ठान भी किए जाते हैं। भक्त इन अनुष्ठानों का हिस्सा हो सकते हैं, जैसे सुबह, दोपहर और शाम की आरती।

समय इस प्रकार हैं:

  • दर्शन सुबह 6:00 बजे से रात 10:00 बजे तक
  • सुबह की आरती 7:00 AM
  • दोपहर आरती 12:00 pm
  • शाम की आरती 7:00 बजे

सोमनाथ मंदिर के तथ्य

  1. देवता- भगवान सोमनाथ (भगवान शिव)
  2. स्थान -सोमनाथ, गुजरात
  3. महत्व- ज्योतिर्लिंग
  4. टूर्स द्वारका – सोमनाथ टूर
  5. दर्शन का समय- सुबह 6:00 बजे से रात 10:00 बजे तक
  6. प्रवेश शुल्क- निःशुल्क
  7. पूजा – रुद्राभिषेक, लघुरुद्र अभिषेक
  8. यात्रा करने का सर्वोत्तम समय- मार्च और अक्टूबर
  9. त्यौहार – श्रावण, शिवरात्रि, कार्तिक पूर्णिमा

कैसे पहुंचे सोमनाथ मंदिर? – How to reach Somnath Temple?

हवाई मार्ग से: निकटतम हवाई अड्डा दीव है जो मंदिर से 85 किमी दूर है।

ट्रेन द्वारा: निकटतम रेलवे स्टेशन सोमनाथ है। गुजरात के सभी प्रमुख शहरों से नियमित ट्रेन सेवा उपलब्ध है।

सड़क मार्ग द्वारा: सोमनाथ गुजरात के प्रमुख शहरों जैसे अहमदाबाद, जूनागढ़, द्वारका और चोरवाड़ से राज्य के सड़क मार्गों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

अहमदाबाद से सोमनाथ मंदिर मार्ग – Ahmedabad to Somnath Temple Road

सोमनाथ मंदिर अहमदाबाद के केंद्र से 411 किमी की दूरी पर स्थित है।

हवाई मार्ग से: निकटतम हवाई अड्डा दीव है , जो मंदिर से 85 किमी दूर है।

ट्रेन: सुपरफास्ट एक्सप्रेस और मेल एक्सप्रेस जैसी कई ट्रेनें सोमनाथ रेलवे स्टेशन और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच चलती हैं।

सड़क मार्ग: सड़क मार्ग से यात्रा करने का सबसे तेज़ मार्ग NH27 और NH47 है। सड़क का उपयोग करते हुए अहमदाबाद और सोमनाथ मंदिर के बीच लगभग 7 घंटे की ड्राइव लगती है।

Generic placeholder image
About JP Dhabhai

Hi, My name is JP Dhabhai and I live in Reengus, a small town in the Sikar district. I am a small construction business owner and I provide my construction services to many companies. I love traveling solo and with my friends. You can say it is my hobby and passion.

Posted on by

Leave a Reply